भगवान जगन्नाथ का चमत्कार, 173 सालों से जगन्नाथ यात्रा में अपने आप फट रहा है चावल का मटका

    0
    261

    मध्यप्रदेश के ग्वालियर चंबल संभाग में कई ऐसे चमत्कारी मंदिर हैं जिनके किस्से दूर-दूर तक फैले हुए हैं। ऐसा ही एक मंदिर ग्वालियर शहर से महज 20 किलोमीटर दूर कुलैथ गांव में है, जहां पर भगवान जगन्नाथ का मंदिर है। आज से भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शुरू हो गई है। ऐसे में आपको कुलैथ में भगवान जगन्नाथ मंदिर से जुड़े कुछ ऐसे चमत्कार के बारे में बता रहे हैं जिनको जानकर आपको बड़ा आश्चर्य होगा।

    शहर से महज 20 किलोमीटर दूर कुलैथ नाम का एक गांव है और इसी गांव में भगवान जग्गनाथ का एक मंदिर है। इस मंदिर में भी एशिया के तर्ज पर बड़े धूमधाम धाम से रथ यात्रा निकली जाता है। लेकिन आपको जानकर बड़ी हैरानी होगी की जब भगवान जगन्नाथ की यहां रथ यात्रा निकाली जाती है उस वक्त 7 कलश के अंदर चावल को पकाया जाता है और जब रथ यात्रा चारों तरफ घूमकर लौट के मंदिर के पास आती है तो उस दौरान कलश को भगवान के आगे रखा जाता है। माना जाता है की कलश को भगवान जग्गनाथ और बलदाऊ,देवी सुभद्रा के सामने इन 7 कलश को रखा जाता है और कुछ देर के बाद सभी कलश अपने आप टूट जाते हैं। मिट्टी के इस कलश का टूटना अपने आप में एक चमत्कार है। इतना ही नहीं यहां 173 साल से मंदिर में अपने आप चावल का मटका फट जाता है।

    संत सावलेदास जगन्नाथ जी के बड़े भक्त थे और बचपन से ही भगवान जगन्नाथ की अनन्य भक्ति के चलते उन्होंने कुलैथ ग्राम से उड़ीसा स्थित जगन्नाथपुरी तक की सात बार कनक दंडवत परिक्रमा की। मंदिर के पुजारी किशोरीलाल श्रीवास्तव के बेटे भानू श्रीवास्तव की मानें तो भगवान जगन्नाथ जी ने संत सावलेदास को स्वप्न में दर्शन देकर कहा कि वह कुलैथ ग्राम में मंदिर बनाएं। सांक नदी में चंदन की लकड़ी बहती हुई मिलेंगी उनसे मूर्ति की स्थापना करें।

    संत सावलेदास ने कहा कि वह कैसे मानें कि मूर्ति में भगवान का वास है तो स्वप्न में ही भगवान ने कहा कि मूर्ति के सामने जब चावलों से भरा घट लेकर भोग लगाओगे तो घट चार भाग में स्वयं फूट जाएगा। संत सावलेदास दूसरे दिन जब सांक नदी के किनारे बैठे थे तभी तीन चंदन की लकड़ी बहती हुई वहां आ गईं। इन लकडिय़ों को लेकर वे गांव में आए और गांव वालों को पूरी बात बताई। संत सावलेदास की बात सुनकर गांव वालों ने उन्हें मंदिर बनाकर भगवान जगन्नाथ की पूजा-अर्चना करने के लिए कहा। इसके बाद उन्होंने गांव में भगवान जगन्नाथ जी का मंदिर बनाया। हर साल जब जगन्नाथ जी की यात्रा उड़ीसा में निकलती है उसी दिन कुलैथ में भी भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जाती है।

    Sources:-Live News

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here